Reporting the underreported threat of nuclear weapens and efforts by those striving for a nuclear free world.

A project of The Non-Profit International Press Syndicate Group with IDN as flagship agency in partnership with Soka Gakkai International in consultative
status 
with ECOSOC.

 

'Their Weapons Possess Them' - Hindi

'उनके हथियार उनपर हावी हैं'

XANTHE हॉल द्वारा*

बर्लिन | वियना (आईडीएन) - लगभग एक हजार लोग वियना के आलीशान हॉफबर्ग में कॉन्फ्रेंस हॉल में पूरे दो दिनों के लिए एक अकथनीय और अकल्पनीय विषय - परमाणु हथियारों के मानवीय प्रभाव - पर विचार विमर्श के लिए जुटे थे। यह संयुक्त राष्ट्र के दायरे से बाहर आयोजित होने वाले राज्य-प्रायोजित सम्मेलनों की श्रृंखला में तीसरा था, पहले दो सम्मलेन नॉर्वे और मेक्सिको में आयोजित हुए थे।

इन सम्मेलनों में भाग लेने वाले राज्यों की बढ़ती संख्या को, परमाणु हथियारों की अस्वीकार्य प्रकृति के बारे में जागरूकता पैदा करने और परमाणु निरस्त्रीकरण के लिए दबाव डालने, इन दोनों उद्देश्यों के प्रति उनकी प्रभावकारिता के संकेत के रूप में देखा जा रहा है।

वहां लगभग 160 राज्यों के प्रतिनिधित्व मौजूद थे, जिनमें संयुक्त राज्य अमेरिका और यूनाइटेड किंगडम भी शामिल थे जो पहली बार भाग ले रहे थे; रूस और फ्रांस इससे काफी खफा थे और उन्होंने इसका बहिष्कार करना जारी रखा। सम्मेलन के अंत में, ऑस्ट्रिया ने परमाणु हथियारों के निषेध और उन्मूलन को संभव करने वाले "कानूनी अंतर" को समाप्त करने का वादा किया, और दूसरों को भी इसमें शामिल होने के लिए आमंत्रित किया।

ऑस्ट्रिया के विदेश मंत्रालय ने इस सम्मेलन के लिए हर संभव प्रयास किए। उद्घाटन सत्र में, युवा मंत्री सेबस्टियन कुर्ज़ ने वैश्विक परमाणु निरस्त्रीकरण पर ठोस प्रगति के लिए नवीन ऊर्जा के साथ काम करने का आवाहन किया।

संयुक्त राष्ट्र महासचिव और पोप की ओर से आने वाले उच्च स्तरीय संदेशों ने उपयुक्त माहौल का निर्माण किया। पोप फ्रांसिस ने परमाणु हथियारों के पीड़ितों को प्रोत्साहित किया कि वे "हमें और सभ्यता" को नष्ट करने की इनकी क्षमता के प्रति एक चेतावनी स्वरूप "भविष्यसूचक वाणी" के रूप में कार्य करें।

अनेकों प्रमुख शख्सियतों ने ऑस्ट्रिया के विदेश मंत्री को पत्र भेजकर यह विश्वास साझा किया कि परमाणु हथियारों से उत्पन्न खतरों को कम करके आंका जाता है और उन्हें घटाने की आवश्यकता है। रेड क्रॉस की अंतर्राष्ट्रीय समिति के अध्यक्ष ने कहा कि नए अध्ययनों ने उनके पूर्व के उन निष्कर्षों की पुष्टि की है कि किसी परमाणु विस्फोट के मामले में कोई भी मदद या राहत कभी पर्याप्त नहीं हो सकती है।

सेत्सुको थुरलो ने एक हिबाकुशा (परमाणु बम उत्तरजीवी) के रूप में नुकसान और पीड़ा से भरी अपनी निजी कहानी सबको सुनाई और पूरा कक्ष उनकी भावनाओं में बह गया।

"A एटम (परमाणु) के लिए है, B बम के लिए। "C कैंसर के लिए है, D मौत के लिए"

उद्घाटन सत्र में सम्मेलन के मुख्य विषयों को रखा गया जिनपर बाद में परमाणु हथियार विस्फोट के प्रभाव, परमाणु परीक्षण, जोखिम, और परिदृश्यों पर आयोजित सत्रों में गहराई से चर्चा की गई।

वैज्ञानिक प्रस्तुतियों के बीच-बीच में "डाउनविन्डर्स" (परमाणु परीक्षण के पीड़ितों) की दुखभरी कहानियां भी पेश की गईं। यूटा में "हील" के मिशेल थॉमस (जो व्हीलचेयर पर ही जीवन बिताने को बाध्य हैं) ने 100 से अधिक जमीन के ऊपर के परमाणु परीक्षणों के रेडियोधर्मी परिवेश के मध्य बड़े होने के बारे में एक भावपूर्ण भाषण दिया और बताया कि कैसे उनका समुदाय कैंसर और अन्य बीमारियों की चपेट में आ गया था। उन्होंने बताया कि वे अपनी मां की सक्रियता पर शर्मिंदा थीं जबतक कि उन्हें खुद यह एहसास नहीं हुआ कि यह कोई शीत युद्ध का दुश्मन नहीं बल्कि "हमारा अपना ही देश बमबारी करके हमें तबाह करने पर तुला है"। लोगों ने उनसे पूछा कि सरकार के खिलाफ इतनी दृढ़ता से बात करने पर उन्हें डर नहीं लगता क्या। उन्होंने कहा: "वे मुझे पहले ही मार चुके हैं।"

तीन महिलाओं द्वारा उनकी जमीन के विनाश, निर्वाह और स्वास्थ्य पर बताई गई बातों के बाद प्रश्नोत्तर सत्र के दौरान, अमेरिका के प्रतिनिधि ने एक गंभीर त्रुटि कर दी। अध्यक्ष द्वारा राज्यों को यह स्पष्ट निर्देश देने के बावजूद कि उन्हें अगले दिन तक ऐसा नहीं करना है, उन्होंने एक भाषण दे दिया। अमेरिका के प्रतिनिधि ने डाउनविन्डर्स की पीड़ा के प्रति क्षमा न मांगने का निर्णय किया, लेकिन कक्ष में मौजूद सभी के समक्ष यह स्पष्ट कर दिया कि परमाणु निरस्त्रीकरण को गति प्रदान करने के लिए "उठाए जाने वाले कदमों" की सूची से भटकने का उनका कोई इरादा नहीं है।

सम्मेलन के दूसरे दिन, अंतर्राष्ट्रीय मानवीय कानून (IHL) पर एक पैनल ने निष्कर्ष निकाला कि परमाणु हथियारों के उपयोग से मौजूदा IHL और पर्यावरण कानून का उल्लंघन होता है, भले ही कोई विशिष्ट प्रतिबंध लागू न हों। ओस्लो विश्वविद्यालय के नोबुओ हयाशी ने एक दिलचस्प व्याख्यान में नैतिक और आचार संबंधी आयामों को छुआ और निष्कर्ष निकाला कि यातना की ही तरह - जो सीनेट की रिपोर्ट के प्रकाशन के बाद उस दिन हर किसी के मस्तिष्क पर छाया हुआ था - परमाणु हथियार भी "इतने क्रूर हैं कि उन्हें सहन नहीं किया जा सकता"। अब "जबकि हम उस युग में नहीं हैं जब मानव जाति अपने वजूद के लिए खुद को बंधक बना लेने के लिए मजबूर महसूस करती थी", इस अनावश्यक पीड़ा से खुद को राहत देने के लिए यह एक उपयुक्त समय है।

राजनीतिक वक्तव्य को अंतिम रूप देने में पांच घंटे लग गए, इसमें मध्यान्ह भोजन का अवकाश भी नहीं लिया गया और कई बार तो बिना अनुवाद के ही काम चलाया गया। 100 राज्यों ने अपने विचार और निष्कर्ष साझा किए। इस अवसर की नीरसता को कम करने में कई बार सभ्य समाज के वक्तव्यों ने राहत प्रदान की, जिनमें सबसे उल्लेखनीय था वाइल्डफायर के 'चीफ इन्फ्लेमेटरी ऑफिसर' रिचर्ड लेलैन का बयान जिन्होंने गैर-परमाणु हथियार राज्यों से प्रार्थना की कि वे शिकायत करना बंद करें और खुद से आगे बढ़कर परमाणु हथियारों पर प्रतिबंध लगाएं।

तथाकथित "वीजल स्टेट्स" (अमेरिका की परमाणु "छतरी" के अधीन राज्य) के प्रतिनिधि जब थोड़ा नाश्ता-पानी करने बाहर आए तब उनका स्वागत फ़ोयर में एक विशाल वीजल द्वारा किया गया। लेलैन ने परमाणु हथियारों से लैस राज्यों को शराबियों के समान बताया जिनपर उनके हथियार हावी हैं, और परमाणु हथियार मुक्त राज्यों से उनकी आदत का समर्थन न करने का आग्रह किया। ICAN का वक्तव्य ICAN ऑस्ट्रिया के युवा निदेशक नाड्जा श्मिट द्वारा प्रस्तुत किया गया जिन्होंने परमाणु हथियारों पर प्रतिबंध लगाने के लिए ऐसी प्रक्रिया स्थापित करने का आवाहन किया जो "सभी के लिए खुली हो और किसी के द्वारा अवरोधित न हो सके"।

इन मानवीय पहलों का उद्देश्य बहस के केंद्र के राष्ट्रीय सुरक्षा हितों की बजाय परमाणु हथियारों के प्रभावों को रखना है, और ये सम्मेलन काफी हद तक इस उद्देश्य को हासिल कर पाने में प्रभावी रहे हैं।

यूक्रेन, हालांकि, अपने वर्तमान संघर्ष में इतना जकड़ा हुआ था कि वह अपने सीमित दायरे से बाहर निकल पाने में नाकाम रहा और अंततः हताशा में रूस पर मौखिक हमला करने से भी नहीं चूका।

यूनाइटेड किंगडम ने तो यहां तक कह दिया कि मानवीय प्रभाव 1968 में ही स्पष्ट हो गए थे और प्रतिबंध या उन्मूलन के लिए समय सारिणी से सामरिक स्थिरता खतरे में पड़ जाएगी, इसलिए "जबतक आवश्यक हो" वे अपनी मिसाइलें बनाए रखना चाहते हैं।

"ऑस्ट्रियाई प्रतिज्ञा" सम्मेलन का मुख्य परिणाम था - एक ऐसा साधन जो देशों को परमाणु हथियारों के निषेध और उन्मूलन की ओर ले जाने वाली प्रक्रिया शुरू करने के लिए अपनी तैयारियों को गति प्रदान करने में सक्षम बनाता है।

*Xanthe हॉल IPPNW जर्मनी का निरस्त्रीकरण प्रचारक है| IPPNW जर्मनी। [IDN-InDepthNews – 11 दिसंबर , 2014]